5G क्या है और 5G टेक्नोलॉजी कैसे काम करता है

5G क्या है – दुनिया में दिन प्रतिदिन नई-नई टेक्नोलॉजी का आविष्कार हो रहा है वही मोबाइल इंटरनेट की दुनिया में भी कई तरह के नए-नए आविष्कार हुए हम लोगों के पास पहले मोबाइल कम्युनिकेशन का 1G आया उसके बाद 2G, 3G, 4G और अब 5G आ रहा है।

 

कुछ देशों में 5G का trial भी शुरू हो चुका है और भारत में भी 5G network जल्द ही लांच होने वाला है।

5 जी के आने के बाद मोबाइल और इंटरनेट टेक्नोलॉजी में क्या बदलाव आएगा और 5G हमारी ज़िन्दगी को किस तरह से बदल देगा क्या 4G मोबाइल में 5G काम करेगा।

तो आज इस लेख में इसी पर चर्चा करने वाले हैं कि 5G क्या है और 5G टेक्नोलॉजी कैसे काम करता है तो इस लेख अंत तक आप पढ़ते रहिए आपको 5G के बारे में मैं समझाने का पूरा कोशिश करूंगा।

5G क्या है

5G मोबाइल और इंटरनेट का 5th जेनरेशन यानी पांचवी पीढ़ी है यह 4G की तुलना में 100 गुना बेहतर है 5G में 30 से 300 गीगा हर्टज फ्रीक्वेंसी का इस्तेमाल किया जाएगा इसमें डाटा की स्पीड 1 गीगा बाइट्स पर सेकंड (1GBPS) होगी।

नेटवर्क 5G में आपको उच्च डाटा गति, इंटरनेट की क्षमता में उच्च वृद्धि, stable internet connectivity, लो लेटेंसी मिलेगी।

इसमें internet-of-things, machine-to-machine कम्युनिकेशन, ड्राइवरलेस कार और भी बहुत चीज 5G तकनीक में आपको देखने को मिलेगा।

5G टेक्नोलॉजी कैसे काम करता है

इसमें मिली मीटर वेब (mm wave) का उपयोग होगा यह वेब बहुत ही तेज Data को ट्रांसफर करता है Mm Wave में बहुत ज़्यादा Bandwidth मिलता है लेकिन इसकी क्षमता लगभग 500 मीटर ही होती है इसलिए 5G टेक्नोलॉजी में MIMO (मल्टीपल इनपुट मल्टीपल आउटपुट) टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है।

5G टेक्नोलॉजी का लेटेंसी रेट कम होने के कारण sender और receiver के बीच सिग्नल का बहुत तेज transmission होता है।

Latency rate 5G technology में 1मिली सेकेंड होती है latency rate कम होने के कारण ही 5G में इंटरनेट ऑफ थिंग्स, मशीन to मशीन communication एडवांस टेक्नोलॉजी इसमें काम करेगा।

5G टेक्नोलॉजी में मिलीमीटर वेब (mmwave) का यूज करने के कारण बहुत नज़दीक मैं छोटे-छोटे मोबाइल टावर लगाने होंगे क्योंकि इस वेब की क्षमता कम होती है लेकिन यह तरंग बहुत ही क्विक 1 मिली second में ही डाटा को इनपुट आउटपुट देती है इसलिए 5G में इस तरंग का यूज किया जाता है 5G टेक्नोलॉजी ip6 (इंटरनेट प्रोटोकोल 6) को सपोर्ट करती है।

मोबाइल नेटवर्क जनरेशन

First Generation – 1G

सबसे पहले हम लोगों के पास मोबाइल कम्युनिकेशन का फर्स्ट जनरेशन आया 1G में एनालॉग वॉइस का प्रयोग किया गया था इसमें सिर्फ़ वॉइस कॉल होती थी और हम लोग सिर्फ़ इसमें बात ही कर सकते थे।

Second Generation – 2G

2G में डिजिटल voice यूज़ किया गया 2G में CDMA (कोड डिविजन मल्टीप्ल एक्सेस) टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया था 2G टेक्नोलॉजी में मैसेज भेजना और वॉइस रिकॉर्ड करना आसान हो गया 2G network GSM स्टैंडर्ड में लांच किया गया था।

Third Generation – 3G

3G तीसरी पीढ़ी का वायरलेस मोबाइल कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी है इसमें GPRS (जनरल पैकेट रेडियो सर्विस) का यूज़ किया गया था 3G ने डिजिटल सर्विस को लोगों के लिए आसान बना दिया।

Forth Generation – 4G

4G में LTE Long Term Evolution का इस्तेमाल किया गया इसमें 6 गीगाहर्टज से नीचे के का wave frequency इस्तेमाल किया जाता है.

4G ने इंटरनेट की स्पीड बढ़ा दी और video calling करने, internet से एचडी वीडियो देखने में, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करने में use किया जाने लगा।

Fifth Generation – 5G

5th जनरेशन मोबाइल cellular telecommunication की पांचवीं पीढ़ी है और 5th जनरेशन पर अभी काम चल रहा है जो कि हम लोगों को जल्द ही 5G इंटरनेट देखने को मिलेगा ।

क्या है 5G के फायदे

  • हाई स्पीड इंटरनेट सर्विस 5G देगा वहीं वर्तमान में भारत में 4G के एवरेज डाउनलोड स्पीड 11.46 mbps जिसमें से जिओ कंपनी की सबसे ज़्यादा नेट की स्पीड है वहीं दक्षिण कोरिया जैसे देश में अधिकतम 4G का स्पीड हंड्रेड एमबीपीएस तक है वहीं 5g के आने के बाद 1gbps का स्पीड देगा। 
  • लेटेंसी रेट 5G का बहुत कम है जिससे सेंडर और रिसीवर के बीच डाटा का ट्रांसफर बहुत तेज होगा।
  • 4G की तुलना 5G बीस गुना ज़्यादा स्पीड से चलेगा अभी हम 4G इंटरनेट से कोई एचडी मूवी 2 घंटे का 7 से 10 मिनट लग जाती है डाउनलोडिंग करने में वही 5जी में वही मूवी सिर्फ़ 5 से 7 सेकंड में डाउनलोड हो जाएगी।
  • इंटरनेट कनेक्शन 5G में स्टेबल और सिक्योर होगी। 
  • Internet-of-things 5G टेक्नोलॉजी में इस्तेमाल होगा।
  • मेडिकल के क्षेत्र में भी 5G टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होगा मेडिकल के क्षेत्र में रोबोटिक सर्जरी करने में 5G का इस्तेमाल होगा कहीं दूर बैठे ही डॉक्टर किसी भी रोगी का ऑपरेशन रोबोटिक के जरिए कर सकेंगे।
  • यातायात के क्षेत्र में स्वचालित गाड़ियों में 5G टेक्नोलॉजी यूज होगा जिससे सड़क दुर्घटना रोकने में मदद मिलेगी।
  • 5G नेटवर्क में बहुत ही हाई क्वालिटी अल्ट्रा एचडी क्वालिटी की वीडियो कॉलिंग की जा सकेगी।
  • 4G की तुलना में 5G टेक्नोलॉजी में आपकी मोबाइल की बैटरी की खपत बहुत ही कम हो जाएगी जिससे आपकी मोबाइल की life बढ़ जाएगी।
  • 5G के आने से machine-to-machine कम्युनिकेशन कर पाएंगे।
  • आपके घरों की सुरक्षा के लिए 5G का उपयोग होगा आप अपनी घरों के बहुत-सी चीजों को अपने मोबाइल से ही कंट्रोल कर पाएंगे।
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी और तेजी से 5G में  काम करेगी।

5G नेटवर्क के नुकसान

  • कम दूरी पर बहुत सारे टावर लगाने होंगे 5G नेटवर्क के लिए और इस इससे radio-frequency सिग्नल काफ़ी मात्रा में निकलेगा जिससे पक्षियों और मनुष्य को इस रेडिएशन से बीमार होने की आशंका है।
  • 5G नेटवर्क में चीनी कंपनी huawei सबसे आगे है लेकिन सुरक्षा कारणों से चीनी कंपनी huawei को कई देशों ने बैन कर दिया है इसलिए 5G में सिक्योरिटी और प्राइवेसी समस्या को पहले दूर करना पड़ेगा यार पैसे की समस्या को दूर करना होगा।
  • यह टेक्नोलॉजी आने के बाद बहुत सारे 4G मोबाइल को 5G में अपग्रेड करना होगा जो की बहुत ही महंगा होगा।

भारत में 5G कब आएगा

भारत में 5G नेटवर्क जल्द आने वाली है भारत सरकार 5G नेटवर्क के लिए बहुत ही गंभीर है और सरकार जल्द ही 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी करने वाले ही है भारत में 5G भारत और अमेरिका के सहयोग से जल्द ही 5G नेटवर्क लॉन्च करने वाला है।

5G mobile in india

भारत में अभी तक 5G नेटवर्क नहीं आया है लेकिन 5G मोबाइल मार्केट में ज़रूर लॉन्च हो गया है क्योंकि जब 5G मोबाइल रहेगा तभी 5G नेटवर्क का यूज होगा अभी तक भारत में कुछ प्रमुख 5G मोबाइल लॉन्च हो चुकी है।

  • Realme x50 pro 5G
  • Asus rog phone 3
  • Oneplus 8t
  • Vivo v20 pro
  • Samsung Galaxy note 20 ultra 5G
  • Moto G5 5G
  • Oppo Reno 3 pro

और भी 5G मोबाइल फ़ोन भारत में जल्दी ही लांच होने वाली है।

Conclusion

आज इस लेख में आपको 5G क्या है और 5G कैसे कार्य करता है जानने को मिला।

5G के बारे में और भी कुछ आपके मन में सवाल है तो आप मुझसे नीचे कमेंट करके अपना सवाल पूछ सकते हैं और आपको अगर यह लेख पसंद आया तो इस लेख को ज़्यादा से ज़्यादा फ़ेसबुक व्हाट्सएप ग्रुप में अपने दोस्तों के साथ शेयर करें धन्यवाद।

यह भी पढ़ें;-

Leave a Comment